नाबालिग से दुराचार के आरोपी को एक साल का कारावास, 25 हजार रुपये का अर्थदंड

खबर शेयर करें

अल्मोड़ा। ईस्ट जोन बैडमिंटन टूर्नामेंट खेलने अल्मोड़ा आई पश्चिम बंगाल की एक ​नाबालिग खिलाड़ी से दुराचार के आरोपी को विशेष सत्र न्यायाधीश कौशल किशोर शुक्ला की अदालत ने एक साल का कारावास व 25 हजार के अर्थदंड से दंडित किया है।

अभियोजन कहानी के अनुसार 16 सितंबर 2019 को कोलकाता, पश्मिच बंगाल निवासी पीड़िता ईस्ट जोन बैडमिंटन टूर्नामेंट खेलने के लिए टीम व कोच के साथ अल्मोड़ा आई हुई थी। 19 सितंबर 2019 को स्थानीय हेमवती नंदन बहुगुणा स्टेडियम में टूर्नामेंट शुरू हुआ। आरोपी अरिन्ताप दास गुप्ता पुत्र जोय दास गुप्ता, निवासी-5 ठाकुर रामकृष्ण लेन, गर्फा कोलकता, पश्चिम बंगाल ने पीड़िता को कई बार मैसेज व कॉल कर उसे परेशान किया जब पीड़िता ने उससे मना किया तो वह उसके कमरे में घुस गया। जहां उसने पीड़िता के साथ दुराचार किया।

फ़ास्ट न्यूज़ 👉  गणाई गंगोली में कार दुर्घटनाग्रस्त, चालक की मौत

23 सितंबर को पीड़िता अपनी टीम के साथ कोलकाता को चली गई। 25 सितंबर को अपने घर पहुंचकर पीड़िता ने अपनी आपबीती परिजनों को बताई। पीड़िता के पिता के द्वारा घटना की सूचना पश्चिम बंगाल बैडमिंटन एसोसिएशन और प्रकाश पादुकोण बैडमिंटन एकेडमी में ई-मेल के जरिए शिकायत की तथा पुलिस स्टेशन को एक टाईपशुदा तहरीर दी। जिसके आधार पर थाना कोतवाली अल्मोड़ा में 354ए, 354डी व 12 पोक्सो एक्ट के तहत आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

फ़ास्ट न्यूज़ 👉  ड्यूटी में लापरवाही बरतने पर तीन पुलिस कर्मी निलंबित

विवेचना अधिकारी द्वारा विवेचना पूरी कर आरोप पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया। इस मामले का विचारण विशेष सत्र न्यायाधीश अल्मोड़ा के न्यायालय में चला। इस मामले में अभियोजन की ओर से (10) गवाहों को न्यायालय में परीक्षित किया गया। अभियोजन की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी पूरन सिंह कैड़ा द्वारा मामले में सबल पैरवी की गई। तथा दस्तावेजी साक्ष्य भी न्यायालय में प्रस्तुत किए गए।

फ़ास्ट न्यूज़ 👉  मां के संघर्ष ने दिखाई बेटी को राह, बनेगी डाक्टर, पड़े एक मां के संघर्ष की कहानी

विशेष सत्र न्यायाधीश कौशल किशोर शुक्ला द्वारा पत्रावली पर मौजूद मौखिक व दस्तावेजी साक्ष्यों का परिशीलन कर आरोपी अरिन्ताप दास गुप्ता पुत्र जोय दास गुप्ता, निवासी -5 ठाकुर रामकृष्ण लेन, गर्फा कोलकता, पश्चिम बंगाल को धारा- 12 लैंगिक हमलों से बालकों का संरक्षण अधिनियम, 2012 के तहत एक वर्ष का सश्रम कारावास तथा 25 हजार रुपये के अर्थदण्ड से दंडित किया गया है।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 फ़ास्ट न्यूज़ के WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ास्ट न्यूज़ के फ़ेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 कृपया नवीनतम समाचारों से अवगत कराएं WhatsApp 9412034119